बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

अक्तूबर 12, 2015

भरे जाएंगे इविवि में शिक्षकों के 500 से अधिक खाली पद : इस बार ऑनलाइन लिए जाएंगे आवेदन |

इलाहाबाद, प्रमुख संवाददाता इलाहाबाद विश्वविद्यालय में प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर और असिस्टेन्ट प्रोफेसर के लगभग 500 से अधिक पदों को भरने के लिए विज्ञापन जल्द जारी किया जाएगा। इन 500 में वे पद भी शामिल होंगे, जिनके लिए फरवरी 2012 में विज्ञापन जारी किया गया था लेकिन चयन प्रक्रिया नहीं हो सकी थी।

 खास बात यह है कि इस बार ऑनलाइन आवेदन लिए जाएंगे। यह फैसला शनिवार को हुई कार्य परिषद की बैठक में हुआ। ऑनलाइन आवेदन के लिए खास तौर से एक साफ्टवेयर विकसित किया गया है। फरवरी 2012 में जिन लोगों ने आवेदन किया था, उन्हें फिर से आवेदन करना होगा। आवेदन पत्र की हार्ड कॉपी भी जमा की जाएगी।

इविवि प्रशासन की तैयारी इसी माह के अंत तक विज्ञापन जारी करने की है। कार्य परिषद की बैठक के बाद कुलपति प्रो. ए सत्यनारायन ने ऑनलाइन आवेदन के लिए तैयार किए गए साफ्टवेयर का डेमो भी देखा। इविवि प्रशासन ने प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर, असिस्टेन्ट प्रोफेसर के नान प्लान के 253 और प्लान के 251 यानी 504 पदों के लिए विज्ञापन फरवरी 2012 में निकाला था। 

इनमें से 400 से अधिक पदों पर चयन नहीं हो सका है। कुलपति प्रो. एके सिंह के कार्यकाल में चयन समिति को लेकर उठे विवाद और फिर उनके इस्तीफे की वजह से प्रक्रिया ठप हो गई। विज्ञापन निकले तीन साल से अधिक हो गए हैं इसलिए कार्य परिषद ने इन पदों के साथ ही फरवरी 2012 से अब तक सेवानिवृत हुए शिक्षकों के पदों को शामिल कर नए सिरे से विज्ञापन करने का फैसला लिया है।

भरे जाएंगे इविवि में शिक्षकों के 500 से अधिक खाली पद : इस बार ऑनलाइन लिए जाएंगे आवेदन | Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।