बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 27, 2015

अदेय प्रमाण पत्र के बिना चुनाव नहीं लड़ पाएंगे ग्राम प्रधान,30 सितंबर तक रिपोर्ट न मिलने पर संबंधित ग्राम पंचायत सचिव के खिलाफ कार्रवाई

बलरामपुर / ब्यूरो ग्राम पंचायत निधियों के खातों से खर्च घन का ब्योरा भारत सरकार की वेबसाइट पर अपलोड न कराने वाले ग्राम प्रधानों को अदेय प्रमाण जारी नहीं किया जाएगा। अदेय प्रमाण पत्र न पाने वाले ग्राम प्रधान चुनाव लड़ने से वंचित हो जाएंगे। जिले के सभी ग्राम पंचायत सचिवों व ग्राम प्रधानों को पंचायत निधियों के खातों की आनलाइन फीडिंग सरकार की वेबसाइट पर कराने का निर्देश दिया गया है।

30 सितंबर तक रिपोर्ट न मिलने पर संबंधित ग्राम पंचायत सचिव के खिलाफ कार्रवाई के साथ-साथ ग्राम प्रधान को अदेय प्रमाण निर्गत न करने की सख्त चेतावनी दी गई है। जिला निर्वाचन अधिकारी व डीएम प्रीति शुक्ला ने डीपीआरओ उपेन्द्र राज सिंह को बीते दिन निर्देश दिया था कि शासन स्तर से जिले की सभी 667 ग्राम पंचायतों में वर्ष 2015-16 में हुए विकास कार्यों की सूची 30 सितंबर तक उपलब्ध कराई जाए।

डीएम के निर्देश पर डीपीआरओ ने सभी ब्लॉकों के बीडीओ को रिपोर्ट उपलब्ध कराने के लिए पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि रिपोर्ट न देने वाले ग्राम प्रधानों को अदेय प्रमाण पत्र जारी नहीं किया जाएगा। डीपीआरओ ने सभी ग्राम पंचायत सचिवों को जिला परियोजना समन्वयक स्वच्छ भारत मिशन अमित कुमार श्रीवास्तव व योगेश कुमार के पास सरकारी वेबसाइट पर 30 सितंबर तक हर हाल में डाटा अपलोड कराने का निर्देश दिया है।

न्यूज़ साभार : अमर उजाला

अदेय प्रमाण पत्र के बिना चुनाव नहीं लड़ पाएंगे ग्राम प्रधान,30 सितंबर तक रिपोर्ट न मिलने पर संबंधित ग्राम पंचायत सचिव के खिलाफ कार्रवाई Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।