बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 22, 2015

अभिभयक्ति की आजादी :WhatsApp पर अब नहीं होगा सरकार कापहरा

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीम व्हाट्सएप और फेसबुक जैसे सोशल मीडिया पर संदेश भेजन से जुड़ी इनक्रिप्शन पॉलिसी के मसौदे पर छिड़े विवाद के बाद सरकार ने आज इसे वापस ले लिया। केंद्रीय संचार एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आज मंत्रिमंडल की बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में बताया कि सोशल मीडिया के लिए यह नीति बनाने वाली विशेषज्ञ समिति ने इसके मसौदे को कल ही सार्वजनिक किया था और आम लोगों से इस पर राय मांगी थी।

 उन्होंने कहा कि यह अभी मसौदा है और सरकार की नीति नहीं है। उन्होंने इसे कल ही देखा था और इसमें कुछ ऐसी बातें लिखी थी, जिनसे संदेह पैदा हो रहा था, इसलिए सरकार ने आज सुबह विभाग को इसे वापस लेने का निर्देश दिया है। संचार मंत्री ने कहा कि उन्होंने विभाग से सभी मुद्दों पर फिर से व्यापक विचार करने को कहा है और इसे अंतिम रूप देने के बाद मसौदे के बारे में एक बार फिर से लोगों से राय मांगी जायेगी। 

प्रसाद ने कहा कि सरकार सोशल मीडिया की आजादी का समर्थन करती है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में इस मीडिया की सक्रियता काफी आगे बढ़ी है तथा सरकार इस आजादी को बनाये रखना चाहती है। उन्होंने कहा कि साइबर स्पेस में लोगों की गतिविधियां तेजी से बढ़ रही है और अब तक इसके नियमन के लिए कोई ठोस नीति नहीं थी, जिसे देखते हुए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया गया था। उन्होंने कहा कि इनक्रिप्शन पॉलिसी से जुड़े दो मुद्दे हैं। पहला यह है कि इनक्रिप्शन का स्रोत कौन है और दूसरा मुद्दा यह है कि इसे कौन उपभोक्ता प्राप्त करता है। 

सरकार का मकसद यह है कि इस पॉलिसी के तहत उन स्रोतों को नियंत्रित किया जाये, जो इन संदेशों को भेज रहा है। उन्होंने स्पष्ट किया कि सामान्य उपभोक्ता इस पॉलिसी के दायरे में नहीं आता। यह पूछे जाने पर कि सरकार ने नेट निरपेक्षता के संबंध में भी अपना फैसला वापस लिया था और अब इनक्रिप्शन पॉलिसी के मसौदे को भी वापस ले रही है, तो क्या इससे उसकी छवि खराब नहीं होगी, प्रसाद ने कहा कि नेटनिरपेक्षता के संबंध में कोई विवाद नहीं है और सरकार नेइस बारे में कोई फैसला नहीं लिया था। सरकार ने राज्यसभा में भी इस बारे में विस्तार से बयान दिया था।इस बारे में दूरसंचार नियमन प्राधिकरण की रिपोर्ट आनी बाकी है।

अभिभयक्ति की आजादी :WhatsApp पर अब नहीं होगा सरकार कापहरा Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।