बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 06, 2015

आपको पता है : पीपल के इन उपायों से दूर हो सकती है दरिद्रता,

गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने पीपल को स्वयं का एक स्वरूप बताया है। इसी वजह से मान्यता है कि पीपल की पूजा से दरिद्रता दूर होती है, सुख, ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। नियमित रूप से पीपल की पूजा करनी चाहिए। यहां जानिए पीपल के कुछ उपाय...

जिस दिन पीपल का पूजन करना है, उस दिन सूर्योदय के पहले उठें और स्नान आदि कर्मों के बाद सफेद कपड़े पहनकर किसी ऐसे स्थान पर जाएं जहां पीपल हो। पीपल को गाय का दूध, तिल और चंदन मिला हुआ जल चढ़ाएं। जल चढ़ाने के बाद जनेऊ, फूल और प्रसाद चढ़ाएं। धूप-बत्ती और दीपक जलाएं। आसन पर बैठकर यहां दिए गए मंत्र जप कम से कम 108 बार करें।

मंत्र- 
मूलतो ब्रह्मरूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे। अग्रत: शिवरूपाय  वृक्षराजाय ते नम:।। आयु: प्रजां धनं धान्यं सौभाग्यं सर्वसम्पदम्। देहि देव महावृक्ष त्वामहं शरणं गत:।।

मंत्र जप के बाद आरती करें। प्रसाद ग्रहण करें। इस प्रकार पीपल की पूजा करने पर घर में सुख-समृद्धि और शांति बनी रहती है।

पीपल के कुछ और उपाय:-


1. ज्योतिष में बताया गया है कि पीपल का एक पौधा लगाने और उसकी देखभाल करने वाले व्यक्ति की कुंडली के सभी ग्रह दोष शांत हो जाते हैं। जैसे-जैसे यह वृक्ष बड़ा होगा, आपके घर-परिवार में सुख-समृद्धि बढ़ती जाएगी।

2. यदि कोई व्यक्ति पीपल के नीचे शिवलिंग स्थापित करता है और नियमित रूप से उसकी पूजा करता है तो सभी समस्याएं समाप्त हो सकती हैं। इस उपाय से बुरा समय धीरे-धीरे दूर हो जाता है।

3. शनि दोष, शनि की साढ़ेसाती और ढय्या के बुरे प्रभावों को दूर करने के लिए हर शनिवार पीपल पर जल चढ़ाकर सात परिक्रमा करनी चाहिए।

4. शाम के समय पीपल के वृक्ष के नीचे दीपक जलाना चाहिए।

5. पीपल के नीचे बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ किया जाए तो इस उपाय जल्दी ही शुभ फल प्राप्त हो सकते हैं।

आपको पता है : पीपल के इन उपायों से दूर हो सकती है दरिद्रता, Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।