बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 27, 2015

सात वर्षो तक चले जद्दोजहद के बाद हिंदू राष्ट्र से धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक गणराज्य में परिवर्तित होना एक ऐतिहासिक घटना : नेपाल में नया संविधान लागू, हिंदू से धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र बना । पढ़ें पूरी रिपोर्ट

काठमांडू।नेपाल में रविवार को लोकतांत्रिक संविधान लागू हो गया। सात वर्षो तक चले जद्दोजहद के बाद हिंदू राष्ट्र से धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक गणराज्य में परिवर्तित होना एक ऐतिहासिक घटना है। संविधान लागू होने के साथ ही अंतरिम संविधान निष्प्रभावी हो गया।सात प्रांतों वाले संघीय ढांचे का अल्पसंख्यक मधेसीसमूह विरोध कर रहे हैं। राजधानी काठमांडू में लाल औरनीले रंग के नेपाली ध्वज से सजे संविधान सभा भवन के सामने दो हजार से ज्यादा लोग हर्षोल्लास के साथ खड़े थे।

संविधान लागू होने के बाद नई सरकार का रास्ता साफ करने के लिए प्रधानमंत्री सुशील कोइराला पद त्याग सकते हैं। माना जा रहा है कि उनकी जगह उदारवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता केपी ओली ले सकते हैं।राष्ट्रपति रामबरन यादव ने देश को एकजुट करने वाले चार्टर को लागू किया। संविधान को लेकर कुछ हिस्सों में स्थिति बिगड़ चुकी थी और हाल के सप्ताह में हुए प्रदर्शनों में 40 लोग मारे जा चुके हैं।संविधान की पांच प्रतियों पर हस्ताक्षर करने के बाद राष्ट्रपति यादव ने कहा कि हमारा देश बहु नस्ली, बहु भाषी, बहु धार्मिक और विविध संस्कृतियों वाला है। यहनया दस्तावेज सभी नेपाली भाइयों और बहनों के अधिकारों की रक्षा करेगा। यादव के हस्ताक्षर के साथ ही संविधान ने कानून का रूप ले लिया। हस्ताक्षर के बाद नेपाल संविधान सभा के सदस्यों ने मेजें थपथपा कर स्वागत किया।

 कुछ सदस्यों ने नारे भी लगाए।ऐसा है संविधानसंविधान में 37 संभाग, 304 अनुच्छेद और 7 उपबंध हैं। सातों प्रांतों के बारे में एक वर्ष के भीतर उच्चस्तरीय आयोग फैसला लेगा।क्या है संविधान 2072ईसवी सन में मौजूदा वर्ष 2015 है लेकिन नेपाल में विक्रम संवत लागू है। विक्रम संवत में वर्ष 2072 चल रहा है।विरोध के बीच मिली थी मंजूरीबुधवार को मतदान के समय राजशाही समर्थक नेताओं ने चार्टर के विरोध में मतदान किया था जबकि दक्षिण के मैदानी भाग के नेताओं ने बहिष्कार किया था।

 601 सदस्यों वाली सभा में 85 प्रतिशत सदस्यों ने पक्ष में मतदान किया। निचले सदन या प्रतिनिधि सभा में 375 सदस्य हैं जबकि उच्च सदन में 60 सदस्य हैं।पढ़ेंः नेपाली संविधान लागू होने पर उग्र हुए मधेशीइसलिए है विरोधसात धर्मनिरपेक्ष राज्यों वाला संघीय देश बनाए जानेका कुछ समूह विरोध कर रहे हैं और फिर से हिंदू राष्ट्र पुर्नस्थापित करने की मांग कर रहे हैं। संघीय व्यवस्था को कुछ समूह भारतीय सीमा के समीप मैदानी क्षेत्रों के लिए सही नहीं मान रहे हैं।

लंबे समय तक रही राजशाहीनेपाल में 239 वर्षो तक शाह वंश का शासन रहा। युवराज दीपेंद्र द्वारा नरेश और अपने परिवार के आठ लोगों की हत्या करने के बाद ज्ञानेंद्र को राजा बनाया गया। लेकिन देश में माओवादियों का उपद्रव शुरू हो गया। भारत की मध्यस्थता के बाद 2006 में माओवादी शांत हुए और वर्ष 2008 में राजशाही का अंत हो गया।

सात वर्षो तक चले जद्दोजहद के बाद हिंदू राष्ट्र से धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक गणराज्य में परिवर्तित होना एक ऐतिहासिक घटना : नेपाल में नया संविधान लागू, हिंदू से धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र बना । पढ़ें पूरी रिपोर्ट Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।