बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 06, 2015

1965 मेंबुरी तरह हारा था पाक: पाकिस्तान के ही इतिहासकार ने खोली पोल |

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के एक जाने माने इतिहासकार डॉ एस अकबर जैदी ने 1965 की लड़ाई में पाकिस्तान की जीत के दावे को खारिज किया है। उनका कहना है कि लड़ाई में पाकिस्तान की जीत जैसा बड़ा झूठ दूसरा नहीं हो सकता। बता दें कि पाकिस्तान आज इस जीत का जश्न मना रहा है। यह 1965 की लड़ाई की 50वीं सालगिरह है। पाकिस्तान का दावा है कि उस लड़ाई में उसकी जीत हुई थी।

पाक ने खोई थी अपनी जमीन :-


कराची में इंस्टीट्यूट ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में हिस्ट्री के फैकल्टी डॉ जैदी ने इस पर चुटकी लेते हुए कहा कि पाकिस्तान की जीत एक गप्प के अलावा और कुछ नहीं है। सच तो ये है कि पाकिस्तान ने 1965 की लड़ाई में अपनी जमीन खोई थी। वे कराची युनिवर्सिटी के फैकल्टी ऑफ सोशल साइंसेज की ओर से आयोजित एक समारोह में बोल रहे थे। लेक्चर का शीर्षक ही ‘पाकिस्तान के इतिहास पर एक बड़ा सवाल’ हैं।

पाक इतिहास पर सवाल उठाने की जरूरत: जैदी :-


अपने लेक्चर के दौरान उन्होंने कई सवाल किए। जैसे, पाकिस्तान का इतिहास क्या है? क्या इसका इतिहास पूछने की जरूरत है? कब बना? 14 अगस्त, 1947 या 15 अगस्त, 1947? डॉ जैदी ने कहा कि असल में यह 14 अगस्त 1947 में अस्तित्व में आया था। लेकिन पाकिस्तान के स्कूलों में 712 ईस्वी में आस्तित्व में आना पढ़ाया जाता है, जब अरब सिंध और मुल्तान आए। उन्होंने कहा, "यह बिल्कुल बकवास है।" उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में लोगों को एक खास आइडियॉलोजी के तहत इतिहास पढ़ाया और सिखाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस पर सवाल उठाने की जरूरत है। उन्होंने पाकिस्तान के लोगों को राजनैतिक और कूटनीति विश्लेषक शुजा नवाज की किताब 'क्रॉस्ड स्वॉड्रर्स' पढ़ने की सलाह दी, जो युद्ध की सच्चाई बयान करती है।

चोरी और सीना जोरी :-


वहीं, नियंत्रण रेखा और सीमा पर गोलीबारी करने वाला पाकिस्तान अब यह मामला संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में ले गया है। उसने सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष को पत्र लिखा है कि भारत लगातार सीमा पर गोलीबारी कर रहा है जिससे पाकिस्तान के कई नागरिक मारे जा रहे हैं। पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मलीहा लोधी ने सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष विताली चुरकिन को इस संबंध में पत्र लिखा है। रूस के चुरकिन इस महीने के लिए सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष हैं। पाकिस्तान ने लिखा है, भारत से 2003 के युद्धविराम समझौते का पालन करने को कहा जाना चाहिए। भारत लगातार उकसावे की कार्रवाई कर रहा है।' पत्र में पाक ने युद्धविराम उल्लंघन का
सारा आरोप भारत के सिर मढ़ा है।

1965 मेंबुरी तरह हारा था पाक: पाकिस्तान के ही इतिहासकार ने खोली पोल | Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।