बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 17, 2015

शर्मनाक: टीवी चैनल पर लाइव डिबेट के दौरान हिंदु धर्मगुरुओं में हुई हाथापाई

नयी दिल्ली एक समाचार चैनल पर रविवार को एक लाइव शो के दौरान उस समय शर्मनाक स्थिति पैदा हो गयी जब दो अतिथि आपस में भिड़ गए और न सिर्फ एक दूसरे के खिलाफ तीखे शब्दों का इस्तेमाल किया बल्कि एक दूसरे को थप्पड तक मार दिया। दर्शक जहां यह दश्य देखकर भौंचक रह गए वहीं चैनल ने इस घटना की निंदा की। यह घटना उस समय हुयी जब आज का मुददा कार्यक्रम में हिंदू महासभा के ओमजी और महिला ज्योतिषी राखी बाई के बीच विवादों में घिरी राधे मां को लेकर तीखी बहस हो रही थी।

 ओम जी ने कहा, आप राधे मां की कैसे आलोचना कर सकती हैं। पहले आप अपने को सुधारिए। जब राखी बाई ने विरोध किया तो उन्होंने कहा कि वह शो में एक और अतिथि दीपा शर्मा के बारे में कह रहे हैं। चैनल के अनुसार दीपा शर्मा धर्म गुरू हैं। ओम जी ने शर्मा के पारिवारिक जीवन के बारे में कुछ कथित विवादों का जिक्र किया। उस समय तक शंात दिख रहीं शर्मा उठीं और ओम जी के पास जाकर उनसे उलक्ष गयीं। शर्मा ने चेतावनी देते हुए कहा, तमीज से बात करिए। इसके बाद उन्होंने ओम जी को थप्पड़ मार दिया। 

ओम जी ने भी पलटवार करते हुए एक थप्पड़ लगा दिया और कहा, तू क्या मारेगी इस बीच चैनल ने इस घटना की निंदा की और कहा, हम अपने शो में जिम्मेदार लोगों को बुलाते हैं। हम उनसे ऐसे व्यवहार की उम्मीद नहीं करते और इसकी निंदा करते हैं। ब्राडकास्टर्स एडिटर्स एसोसिएशन के महासचिव एन के सिंह ने भी इस घटना की निंदा की। उन्होंने कहा कि ऐसे शो का मकसद दोनों पक्षों की ओर से सूचना देना है ताकि दर्शक खुद ही फैसला कर सकें। यह शर्मनाक है।

शर्मनाक: टीवी चैनल पर लाइव डिबेट के दौरान हिंदु धर्मगुरुओं में हुई हाथापाई Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।