बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 04, 2015

बचपन में बहुत शरारती रहे हैं महामहिम : मां कराती थी हार्ड वर्क ।

नई दिल्ली। शिक्षक दिवस से पूर्व प्रजिडेंशियल स्टेट में मौजूद सर्वोदय विद्यालय में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी छात्रों से रूबरू हुए। यहां पर अपने जीवन के अनुभवों को बच्चों से बांटते हुए उन्होंने अपनी मां को अपनी पहली टीचर बताया। उन्होंने कहा कि वह बचपन मे बेहद शरारती था और अपनी मां को बहुत तंग किया करते थे। पढ़ाई के लिए भी 10 किमी दूर स्थित स्कूल में जाना पड़ता था।

वह भी केवल तौलिया बांधकर। क्योंकि रास्ता कठिनाइयों से भरा था और बारिश के दिनों में वहां से जाना बेहद मुश्किल होता था। उन्होंने बताया कि उनके हॉस्टल में बिजली नहीं थी, लिहाजा लालटेन की रोशनी में।ही पढ़ना होता था। अपने संबोधन में उन्होंने देश के विकास के योगदान में कांग्रेस के नेताओं का भी जमकर जिक्र किया।
राष्ट्रपति ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के साथ कुछ अन्य देश भी आजाद हुए थे लेकिन वहां पर संसदीय व्यवस्थाा काफी वर्षों के बाद आई, जबकि भारत में आजादी के बाद से ही यह लागू की गई थी। उन्होंने कहा कि जवाहरलाल नेहरू ने लाहौर के कांग्रेस अधिवेशन में पूर्ण स्वराज की मांग की थी। उन्होंने ही विकास के लिए योजना आयोग का गठन भी किया था। उन्होंने विकास के मापदंड तय किए। राष्ट्रपति ने कहा किभारत की आजादी के समय देश में खाद्यान्न की दशा सही नहीं थी। लिहाजा देश का पेट भरने के लिए अमेरिका से अनाज खरीदना पड़ता था।

लेकिन आज ऐसा नहीं है। आज हम इसमें आत्मनिर्भर हैं। टीचर्स डे से पूर्व बच्चों से रूबरू हुए मोदी, दिए सवालों के भी जवाब राजीव गांधी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने वोट डालने के लिए उम्र की सीमा में कटौती कर इसको 18 वर्ष कर दिया था।पिछले लोकसभा चुनाव में देश के 55 करोड़ मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था और देश में एक स्पष्ट बहुमत की सरकार बनाने में योगदान दिया। दिवंगत प्रधानमंत्री नरसिंहराव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि देश में आर्थिक सुधारों को लागू कर उन्होंने देश को विकास के पथ पर अग्रसर किया।

Keyboards : शिक्षक दिवस , राष्ट्रपति , प्रणव मुखर्जी ,

बचपन में बहुत शरारती रहे हैं महामहिम : मां कराती थी हार्ड वर्क । Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।