बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 17, 2015

जिले के अंदर की तबादला सूची इसी हफ्ते होगी जारी शिक्षकों की तबादला नीति में बदलाव नहीं

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों की स्थानांतरण की कार्यवाही में कोई बदलाव नहीं हुआ है। शिक्षकों ने तय समय में आवेदन कर दिया है और खंड शिक्षा अधिकारी भी तबादला सूची बेसिक शिक्षा अधिकारी को भेज दी है। जनपद स्तरीय समिति इस पर निर्णय लेगी और इसी हफ्ते तबादले की सूची जारी होने के आसार हैं।

 बेसिक शिक्षा परिषद के शिक्षकों का तबादला पिछले वर्ष महज इसलिए नहीं हो सका था कि 72825 शिक्षकों की भर्ती एवं शिक्षामित्रों के समायोजन की प्रक्रिया चलनी थी। इस बार जब तबादला नीति जारी हुई तो स्थानांतरण आदेश जारी होने के पहले ही शिक्षामित्रों का समायोजन ही अवैध करार दिया जा चुका है इससे कुपित शिक्षामित्र आंदोलन कर रहे हैं। ऐसे में यह कयास लगाए जा रहे थे कि इसका प्रभाव शिक्षकों की तबादलों पर पड़ सकता है।

हालांकि जिलों में प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक स्कूलों के शिक्षकों ने 10 सितंबर तक स्थानांतरण के लिए आवंटित प्रपत्र भरकर खंड शिक्षा अधिकारी को सौंप दिया है और खंड शिक्षा अधिकारी ने 12 सितंबर को इसे बीएसए कार्यालय के सिपुर्द कर दिया है। अब जिला तबादला समिति अंतिम निर्णय करेगी और 19 सितंबर तक तबादला आदेश जारी करने का फरमान है।

 बेसिक शिक्षा परिषद के उप सचिव अशोक कुमार गुप्ता ने बताया कि तबादला कार्यक्रम में बदलाव के लिए कोई निर्देश जारी नहीं हुआ है। जिले के अंदर जो स्थानांतरण होने हैं उसमें बेसिक शिक्षा अधिकारी अनिवार्य रूप से यह देख लेंगे कि तबादले से स्कूल शिक्षक विहीन न हो जाएं।

जिले के अंदर की तबादला सूची इसी हफ्ते होगी जारी शिक्षकों की तबादला नीति में बदलाव नहीं Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।