बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 02, 2015

कॉन्वेंट स्कूल में हुई घटना के बाद पैरंट्स का बवाल, पुलिस ने शुरू की जांच

प्रवीन मोहता, कानपुर
फतेहपुर के एक मिशनरी स्कूल पर आरोप है कि
उसने मेहंदी लगाकर स्कूल पहुंचीं लड़कियों को
धूप में खड़ा रखा। पत्थरों से रगड़कर हाथ
की मेहंदी छुड़वाई और राखियां काटकर फेंक
दीं। मंगलवार को छुट्टी के बाद घर पहुंचीं स्टूडेंट्स
ने पैरंट्स को कहानी बताई तो उन्होंने स्कूल आकर
बवाल कर दिया। जिसके बाद मौके पर आई
पुलिस ने नाराज लोगों को शांत किया। पैरंट्स
ने स्कूल के खिलाफ सदर कोतवाली में तहरीर दी
है। जांच अधिकारी मोहम्मद सगीर के अनुसार,
तफ्तीश के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा।
रक्षाबंधन की छुट्टी के बाद जीटी रोड स्थित
सेंट मेरीज कॉन्वेंट स्कूल सोमवार को खुला था।
असेंबली के दौरान प्रिंसिपल ने कुछ छात्राओं
को हाथों में लगी मेहंदी छुड़ाकर आने को कहा
था। आरोप है कि मंगलवार सुबह फिर असेंबली हुई
तो प्रिंसिपल सिस्टर सरिता ने क्लास-9 की
एक छात्रा को बुलाया और उसके हाथ पर पानी
डालकर उसे पत्थरों से रगड़वाया। इससे उसके हाथ
से ब्लीडिंग होने लगी।
कुछ और लड़कियों के हाथ में बंधी राखी
कटवाकर डस्टबिन में डाल दी। उन्हें घंटों धूप में
खड़ा रखा गया। छुट्टी के बाद सुबकती छात्राएं
घर पहुंचीं और पैरंट्स को पूरा वाकया बताया।
काफी तादाद में अभिभावक स्कूल पहुंच गए और
हंगामा करने लगे। उनका आरोप था कि स्कूल
जानबूझकर धार्मिक भावनाएं आहत कर रहा है।
बवाल बढ़ा तो प्रिंसिपल ने खुद को अपने घर में
कैद कर लिया। इसके बाद पुलिस ने लोगों को
समझाकर बवाल शांत किया।
'मामले की होगी जांच'
दूसरी तरफ स्कूल की संचालक संस्था सेंट मैरीज
केथोलिक मिशनरी, वाराणसी ने पूरे केस की
जांच कराने की बात कही है। वहीं स्कूल
प्रिंसिपल सिस्टर सरिता का कहना है, 'स्कूल में
कोई भी धार्मिक चिह्न लेकर या लगाकर आना
सख्त मना है। इसके बावजूद लड़कियां मेहंदी
लगाकर क्यों आई। प्रॉस्पेक्टस में भी ऐसा
लिखा है।'

कॉन्वेंट स्कूल में हुई घटना के बाद पैरंट्स का बवाल, पुलिस ने शुरू की जांच Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।