बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 27, 2015

उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग में बड़ा घोटाला : असि. प्रोफेसर भर्ती परीक्षा की जांच में थी गड़बड़ी,सादी ओएमआर शीट पर पड़ेगा पर्दा,| आयोग अध्यक्ष के अयोग्य घोषित होने के बाद प्रकरण हाशिए पर

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : अशासकीय महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर बनने के लिए हुआ है। अफसर व कर्मचारियों ने मिलकर यहां पद ही बेच दिए थे, शायद इसीलिए 271 अभ्यर्थियों ने ओएमआर शीट पर पेन नहीं चलाई और उसे सादी ही जमा कर दी थी, ताकि एक भी गल्ती न होने पाए।

कार्बन कॉपी और ओएमआर शीट के मिलान में यह मामला पकड़ गया, लेकिन जिस शख्स ने यह गड़बड़ी पकड़ी थी उसे हाईकोर्ट ने अयोग्य घोषित कर दिया है। ऐसे में अब यह प्रकरण हाशिए पर जाने के आसार ज्यादा हैं।

अशासकीय महाविद्यालयों के लिए असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग उत्तर प्रदेश करता है। आयोग ने 1652 पदों के लिए पहली बार करीब 45 विषयों की लिखित परीक्षा करवाई। परीक्षा तय समय पर पूरी हो गई और बाकायदे आंसर शीट जारी हुई, जिसमें आपत्तियां ली गई। परीक्षा परिणाम जारी होने से पहले गड़बड़ी की शिकायतों पर तत्कालीन अध्यक्ष लाल बिहारी पांडेय ने ओएमआर शीट एवं कार्बन कॉपी का मिलान करवाने का निर्देश दिया। 

इस जांच में आश्चर्यजनक तरीके से 271 ऐसी ओएमआर शीट मिली जिसमें अभ्यर्थी ने सिर्फ अपना नाम, रोल नंबर एवं अन्य जरूरी औपचारिकताएं पूरी की थी, लेकिन एक भी सवाल का जवाब नहीं दिया था। संदेह इसलिए हुआ कि इस परीक्षा में वह अभ्यर्थी आवेदक थे जो नेट एवं पीएचडी कर चुके हैं यानी योग्य लोगों को एक भी सवाल का जवाब नहीं आता था तो परीक्षा में शामिल क्यों हुए। 

आयोग में इस समय लगभग 14 अधिकारी व कर्मचारी तैनात हैं। बताते हैं कि इनमें से अधिकांश के रिश्तेदार एवं नजदीकी भी असिस्टेंट प्रोफेसर परीक्षा में बैठे थे। पकड़ी गई ओएमआर शीट इन्हीं के करीबियों की भी हैं। उसमें किसी सवाल का जवाब इसलिए नहीं लिखा गया ताकि बाद में सही-सही जवाब भरकर उन्हें पास किया जा सके, लेकिन खेल होने के पहले ही वह पकड़ी गई। 

इसी बीच हाईकोर्ट ने पहले तीन सदस्यों और बाद में अध्यक्ष को भी अयोग्य घोषित किया गया है। साथ ही सचिव की सुनवाई लंबित है ऐसे में आयोग में कोई यह बताने वाला नहीं है कि आखिर सादी ओएमआर शीट मामले में अब क्या होगा। अध्यक्ष के हटने से इस प्रकरण को हाशिए पर डाले जाने की ही चर्चा तेज है। असिस्टेंट प्रोफेसर का परीक्षा परिणाम भी लंबित है वह कब घोषित होगा यह भी अभी तय नहीं है।

न्यूज़ साभार : दौनिक जागरण


उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग में बड़ा घोटाला : असि. प्रोफेसर भर्ती परीक्षा की जांच में थी गड़बड़ी,सादी ओएमआर शीट पर पड़ेगा पर्दा,| आयोग अध्यक्ष के अयोग्य घोषित होने के बाद प्रकरण हाशिए पर Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।