बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 27, 2015

मेरठ में आयरन की गोली खाने से 50 बच्चों की हालत बिगड़ी

लखनऊ। मिड-डे मिल के साथ आयरन की गोली खाने से 50 बच्चों की हालत बिगडऩे से नाराज अभिभावकों ने मेरठ के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भावनपुर पहुंचकर प्रधानाध्यापक की जमकर पिटाई की। हालत चिंताजनक होने पर कई बच्चों कों तत्काल मेडिकल कालेज भेजा गया।

 भावनपुर थाने के राली चौहान गांव के दक्षिण छोर पर पूर्व माध्यमिक विद्यालय है, जिसमें कक्षा छह से आठ तक के 130 बच्चे पढ़ते हैं। बुधवार को स्कूल के रजिस्टर में 114बच्चों की उपस्थिति थी। हेड मास्टर गुलाम अब्बासने बताया कि बुधवार को खाना साढ़े 11 बजे बना था। बच्चों को खाने के साथ एक-एक आयरन की गोली दे दी गई। पहले कक्षा आठ की छात्रा संजना और निकिता ने पेट में दर्द की शिकायत की और फिर दो छात्रों ने। बाद में बीमार बच्चों की संख्या 50 तक पहुंचगई। उल्टी के साथ नाक से खून आने लगा तो शिक्षकोंऔर अभिभावकों के हाथ पांव फूल गए।

 एंबुलेंस बुलाकर सभी को लेकर अभिभावक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। इतनी बड़ी संख्या में बच्चों के पहुंचने पर स्वास्थ्य केंद्र के स्टाफने भी हाथ खड़े कर दिए। अभिभावकों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया और उन्होंने हेड मास्टर गुलाम अब्बास की जमकर पिटाई कर कपड़े तक फाड़ दिए। पंद्रह बच्चों को मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है। सीएमओ, बीएसए और एसडीएम तथा सीओ ने गांव और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का दौरा किया। तीस बच्चों को घर भेज दिया गया है। सीएमओ और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र इंचार्ज का कहना है कि खाली पेट आयरन की गोली देने से हालत बिगड़ी और गैस्ट्रिक की शिकायत हुई।

मेरठ में आयरन की गोली खाने से 50 बच्चों की हालत बिगड़ी Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।