बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 24, 2015

सातवां वेतन आयोग : अब 32 नहीं 13 पे बैंड होंगे । जाने पे बैंड में क्या है खास ? IAS,IPS,IRS,के पे बैंड एक सामान करने की सिफारिश । पूरी रिपोर्ट पढ़ें ।

जाॅन राजेश पॉल | रायपुर/नई दिल्ली 7वें वेतन आयोग ने केंद्र सरकार को सिफारिशें सौंप दी हैं। 31 दिसंबर तक इन पर आखिरी फैसला होगा। जरूरी हुआ तो कुछ बदलाव भी संभव है। इसके बाद इसे वित्त विभाग को भेजा
जाएगा। भास्कर के पास रिपोर्ट की कॉपी बच्चों को एजुकेशन भत्त केंद्रीय कर्मचारियों के कक्षा पहली से दसवीं तक के बच्चों को 40 रुपए और 11वीं व 12वीं के बच्चों को हर महीने 50 रुपए शिक्षा भत्ता देने का प्रस्ताव।
बच्चा विकलांग या मानसिक रूप से अक्षम है तो 100 रुपए शिक्षा भत्ता मिलेगा। बच्चा माता- पिता के साथ न रहकर दूसरी जगह रह रहा है तो भी उसे सौ रुपए देने का प्रस्ताव। बच्चा हाॅस्टल में है तो अलग से हर माह 300 रुपए मिलेंगे। शर्त यह है कि जो बच्चे 1987 के पहले पैदा हुए हैं उनमें तीन संतान और 1987 के बाद संतान हुई है तो दो बच्चों को ही यह सुविधा मिलेगी। 31 दिसंबर तक नए फ्रेम वर्क पर फैसला, जरूरत होने पर बदलाव कर सकता है केंद्र रिटायरमेंट सीमा कर्मचारियों के लिए 33 साल की सेवा या 60 साल जो भी पहले हो, रिटायर करने का प्रस्ताव है।
वहीं 30 साल की सेवा या 55 साल की उम्र में ग्रेडिंग के अनुसार वीआरएस का विकल्प दिया जा सकता है। किसी अफसर पर आरोप है तो वो 55 साल की उम्र में वीआरएस ले सकता है। हाउस रेंट कर्मचारियों को ए, बी-1, बी-2, और सी के लिए 25% जबकि ग्रामीण क्षेत्रों के लिए 20% हाउस रेंट का प्रस्ताव। वर्तमान में अलग-अलग क्षेत्रों या पदों पर 10 से 30% तक हाउस रेंट मिलता है।
यानी अब हाउस रेंट में भी एकरूपता का प्रस्ताव है। इंक्रीमेंट आयोग ने साल में एक बार 6% इंक्रीमेंट देने (टोटल आफ पे पर) की सिफारिश की है। ये हर कर्मचारी-अधिकारी को अब 1 जुलाई से मिलेगा। इसके लिए जुलाई तक कम से कम छह महीने की सेवा पूरी होनी जरूरी है। अब तक कर्मचारी नौकरी पर लगा उस तारीख या पदोन्नति की तारीख के अनुसार इंक्रीमेंट होता है।
नए वेतन आयोग में आईएएस, आईपीएस व आईआरएस अफसरों के वेतन में एकरूपता का प्रस्ताव है। साथ
ही अफसरों-कर्मचारियों के वेतन में तीन गुना तक इजाफे का भी प्रस्ताव है। आयोग के अध्यक्ष अशोक कुमार माथुर, सचिव मीना अग्रवाल व सदस्य डॉ. राथिन राय व विवेकराक ने ये रिपोर्ट तैयार की है। रिपोर्ट की सिफारिशों के मुताबिक वर्तमान में कर्मचारियों के 32 पे-बैंड हैं।
 इसके अलावा भारत सरकार के सचिव तथा कैबिनेट सचिव के अलग से पे-बैंड हैं। इन्हें घटाकर 13 किए जाने का प्रस्ताव है। पे-बैंड कम हो जाने से आईएएस, आईपीएस और आईआरएस के पे-बैंड एक समान हो जाएंगे। एक रूपता आने से आईपीएस व आईआरएस की यह शिकायत दूर हो जाएगी कि उन्हें आईएएस से कम वेतन मिलता है।
 नए पे-बैंड में  क्या है खास :-
ग्रेड बी और सी के लिए एक-एक रनिंग पे-बैंड। ग्रुप ए के पदों के लिए दो रनिंग पे-बेंड होंगे। केंद्रीय सचिव व कैबिनेट सचिव के लिए अलग स्केल देने का प्रस्ताव। पे-बैंड में एक के लिए कम से कम पे स्केल 21, 200 रु. सचिव के लिए कम से कम 2 लाख रु तक करने की सिफारिश।
32 नहीं, अब 13 पे बेंड :-
एस 1 से एस 4 :-
 21,200 से 67,700 रु.
 एस 5 से एस 6 :-
 22,100 से 67,700 रु. 
एस 7 व एस 8 :-
 25000 से 68000 रु.
 एस 9 से एस 12 :-
 39,900 से 81,600 रु.
 एस 13 व 14 :-
 40,980 से 82,080 रु.
 एस 15 :-
 43,140 से 83,040 रु. 
एस 16 व 17 :-
 62,600 से 82,320 रु
 एस 18 से एस 20 :-
 62,740 से 92,500 रु.
 एस 21 से 23 :-
 68,440 से 93,940 रु. 
एस 24 व 25 :-
 1,38,520 से 1,57,840 रु. 
एस 26 व 27 :-
1,39,060 से 1,58,080 रु.
 एस 28 व 29 :-
 1,42,080 से 1 ,59,400 रु
 एस 30 :-
 200000तक  तक कर दिया है।

नोट: एस 31 से 36 जो 6ठवें वेतन आयोग में था जिसमें केंद्र के ज्वाइंट सेक्रेटरी, एडिशनल सेक्रेटरी
व केबिनेट सेक्रेटरी शामिल थे विलोप कर दिया गया।
न्यूज़ साभार :- दैनिक भास्कर ।

सातवां वेतन आयोग : अब 32 नहीं 13 पे बैंड होंगे । जाने पे बैंड में क्या है खास ? IAS,IPS,IRS,के पे बैंड एक सामान करने की सिफारिश । पूरी रिपोर्ट पढ़ें । Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।